नरेश गोयल की जीवनी/Naresh Goyal biography.

आजकल एक नाम बहुत प्रचलित हो रहा है, नरेश गोयल। नरेश गोयल जेट एयरलाइंस के संस्थापक थे। जो केनरा बैंक से 538 करोड़ रूपया के कथितधोखाधड़ी के मामले में मुंबई के एक अदालत्ते के हिरासत में हैं। उनके अदालत से गुहार करने की खबर सोशल मीडिया पर काफी तेजी से फैल रहा है। आज मैं नरेश गोयल के जीवन चरित्र के बारे में आप  सबके सामने प्रस्तुत करने जा रहा हूं।

नरेश गोयल की जीवन परिचय।
नरेश गोयल का जन्म 1949 से में पंजाब के संगरूर में एक व्यवसाय के घर हुआ था। उनके बाल्यावस्था में ही उनके पिता का देहांत हो गया था। उसे समय उनकी उम्र 10 वर्ष थी। उनके पिता के देहांत के बाद उनके घर की आर्थिक स्थिति इतना खराब हो गया कि घर तक की नीलामी हो गया। घर के नीलामी के बाद अपने माता के चाचा के घर पर जाकर उन्होंने रहना पड़ा। उनकी पढ़ाई सरकारी स्कूल में छठी क्लास तक हो पाई थी। धीरे-धीरे वह अपने मेहनत से ऐसे मकान पर पहुंचे कि आज पूरी दुनिया में एक  खबर बन गए हैं।
नरेश गोयल की करियर
1967 में गोयल अपने मामा सेठ चरण दास रामलाल की स्टोर एजेंसी में मात्र ₹300 के वेतन पर करियर शुरू किया था। 1967 से 1974 तक उन्होंने कई विदेशी एयरलाइंस के साथ व्यावसायिक प्रशिक्षण के माध्यम से यात्रा की। 1969 में उन्होंने इराकी एयरलाइंस का राष्ट्रपति बनाए गए। 1971 से 1974 तक रॉयल फटी नियम एयरलाइंस के क्षेत्रीय प्रबंधक बने। 1993 में जब कांग्रेस की सरकार में नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री थे उसे समय उन्होंने आर्थिक सहायता लेकर अपने जेट एयरलाइन से की स्थापना की। इस तरह उन्होंने कई उतार चढ़ाव देखते हुए जेट एयरलाइंस के संस्थापक बने।
नरेश गोयल की शादी।
1979 में जब वह एक मार्केटिंग अटेंडर के रूप में शामिल हुए और मार्केटिंग और बिक्री की प्रमुख बन गए इस समय उनकी मुलाकात एंटनी से हुई और वह उससे शादी कर ली। नरेश गोयल के दो बच्चे हैं एक बेटा और एक बेटी।
नरेश गोयल की विवाद।
सितंबर 2023 में केनरा बैंक के 538 करोड रुपए के कथित धोखाधड़ी के मामले में नरेश गोयल को मुंबई के न्यायिक हिरासत में रखा गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने जेट एयरवेज के संस्थापक को 538 करोड रुपए के धोखाधड़ी के मामले में सितंबर 2023 में गिरफ्तार किया गया था। गोयल मुंबई के आर्थर रोड जेल में बंद है। अभी हाल ही में अदालत में पेशी के समय उन्होंने अदालत से 1 मिनट का समय मांगा जिसे अदालत के न्यायाधीश से ने इजाजत दी।
नरेश गोयल हाथ जोड़कर अपनी स्वास्थ्य और अपनी पत्नी के स्वास्थ्य के बारे में अदालत को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मेरी पत्नी को कैंसर है जो आखिरी स्टेज में चल रहा है। मेरी बेटी भी बीमार है। मेरी घुटनों में दर्द है जिसे चलना मुश्किल है। गोयल अदालत से यह सारी बातें हाथ जोड़कर बोल रहे थे। इस पीरियड में उनके शरीर में कंपन हो रहा।
नरेश गोयल के समान और पुरस्कार।
2010 में आंसर एंड यंग की ओर से प्रशंसा पुरस्कार।
2007 में टाटा होटल की लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार।
2008 में टीवी प्रो क्लब द्वारा मैन ऑफ द ईयर पुरस्कार।
1912 में व्यवसाय के उत्कृष्ट के लिए एमटी लीडरशिप पुरस्कार। इस प्रकार से उन्हें और भी पुरस्कार प्राप्त हुए हैं।
आपको अभी पसंद आ सकता है,अटल बिहारी वाजपेई की जीवनी


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.