जगदीप धनखर की जीवनी तथा राजनीतिक कैरियर,

जगदीप धनखर का जन्म 18 मई 1951 को हुआ था। राजस्थान के झुंझुनू जिले के किठाना गांव में हुआ था।उनके पिता चौधरी गोकुल चंद धनखर खेती बारी किया करते थे। धनखड़ के माता का नाम केसरी देवी है वह चार भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर हैं। उनके एक बड़ा भाई तथा छोटे भाई बहन हैं।
साल 1979 में उनकी शादी सुदेश धनखड़ से हुई। उन दोनों की बेटी कामना है इसकी शादी कार्तिकेय बाजपेई से हुई है। धनकर एक के जाट परिवार से आते हैं।
शिक्षा
धनखर की शिक्षा की बात करें तो वह अपनी स्कूली पढ़ाई सैनिक स्कूल चित्तौड़गढ़ से पूरी की और फिर राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। उसके बाद धनखर ने महाराजा कॉलेज जयपुर से भौतिक विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त किया। 1978 में जयपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी के लिए दाखिला ली तथा उसके बाद उन्होंने वकालत शुरु कर दिया। 1990 में धनकर को राजस्थान हाईकोर्ट में सीनियर एडवोकेट बनाया गया। वह इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ अभी टिट्रेशन पेरिस के सदस्य भी रह चुके हैं। वह राजस्थान की सियासत का एक वक्त चर्चित चेहरा रह चुके हैं। हुए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता और राजस्थान हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के प्रेसिडेंट भी रह चुके है।
जगदीप धनखर की राजनीतिक कैरियर।
धनखड़ की कैरियर की बात करें तो वह बार काउंसिल में वकील के तौर पर करियर की शुरुआत की थी। 1990 में सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करना शुरू किया।
राजनीतिक कैरियर की बात करें तो साल 1989-91 के दौरान राजस्थान में झुंझुनू लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से नौवीं लोकसभा के में जनता दल का प्रतिनिधित्व करते हुए सांसद चुने गए। 1993 -98 के दौरान 10 वीं विधानसभा राजस्थान किशनगढ़ से विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और राजस्थान उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन जयपुर के पूर्व अध्यक्ष भी रह चुके हैं। फिर धनखड़ ने 2003 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। धनखर की राजनीतिक कैरियर लगभग 30 साल का है।
2019 में पश्चिम बंगाल के बने राज्यपाल,
30 जुलाई 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें पश्चिम बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया।
जगदीप धनखर बने भारत के चौदहवीं उपराष्ट्रपति,
जगदीप धनखर भारत के 14वें उपराष्ट्रपति बने। उन्हें कुल 528 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी को मार्गरेट अल्वा को 182 वोट मिले। कुल वोट पड़ा 788, जगदीप धनखर 11 अगस्त 2022 को उपराष्ट्रपति पद के शपथ ग्रहण करेंगे। धनखर के वोटों की प्रतिशत देखे हैं तो इन्हें 74 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिला है। धनकर 11 अगस्त को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की जगह लेंगे।
Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.